व्हे प्रोटीन के हैरान करने वाले फायदे और नुकसान

Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

व्हे प्रोटीन कई तरह के प्रोटीनों का मिश्रण होता है। यह दूध का तरल हिस्सा होता है जिसे पनीर

बनाते समय अलग कर दिया जाता है। वास्तव में दूध में दो तरह के मुख्य प्रोटीन होते हैं- केसिन

प्रोटीन और व्हे प्रोटीन । इसमें केसिन प्रोटीन की मात्रा 80 प्रतिशत होती है जबकि व्हे प्रोटीन सिर्फ

20 प्रतिशत होता है। प्रोटीन के फायदे और नुकसान है.

whey protein ke fayde aur nuksan

जिम में जाने वाले युवा आजकल काफी मात्रा में प्रोटीन लेते हैं. यह सही भी है, क्योंकि जब आप

जिम जाते हैं और उन वर्कआउट्स पर काम करते हैं, जो मसल्स बनाने का काम करते हैं तो शरीर

को मसल्स बिल्ड करने के लिए प्रोटीन देना भी जरूरी है. इसके लिए लोग अक्सर सप्लिमेंट का

सहारा लेते हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आप जिस प्रोटीन पाउडर को हेल्दी सोचकर ले रहे हैं

वह आपकी सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है. प्रोटीन पाउडर दूध, छाछ, कैसिइन और सोया

से बना एक सूखा पाउडर होता है. अब तो मटर से भी प्रोटीन बनाया जा रहा है. अक्सर जब लोग

खाने से जरूरी प्रोटीन नहीं ले पाते हैं, तो प्रोटीन पाउडर का इस्‍तेमाल करते हैं. प्रोटीन के फायदे

और नुकसान है.

व्हे प्रोटीन के फायदे

मधुमेह रोगियों के लिए

इंसुलिन की कमी और रक्त शर्करा उच्च होने के कारण टाइप-2 डायबिटीज हो जाता है। व्हे

प्रोटीन  रक्त शर्करा को कम करने और इंसुलिन को बढ़ाने में मदद करता है। इसलिए व्हे प्रोटीन

को टाइप-2 डायबिटीज के रोगियों के लिए अच्छा माना जाता है। व्हे प्रोटीन अंडे और मछली की

अपेक्षा अधिक फायदेमंद होता है। व्हे प्रोटीन के फायदों को डायबिटीज की दवाओं में भी उपयोग

किया जाता है। उच्च कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन लेने से पहले व्हे प्रोटीन का सेवन मधुमेह रोगियों के

लिए फायदेमंद है।

whey protein banaaye muscles

पचने में आसान

व्हे प्रोटीन सबसे तेज पचने वाले प्रोटीन्स में से एक है और ये शरीर में अच्छे से एग्जॉर्ब होने में बहुत

कम समय लेता है। थ्योरिटिकल रूप से, व्हे प्रोटीन पानी के साथ लेने पर 1.5 घंटे से भी कम समय

में पाचन तंत्र में जाकर डाइजेस्ट हो जाता है।

कैसीन प्रोटीन भी व्हे प्रोटीन का प्रकार है, जो धीमी गति से पचता है। बहुत कम लोगों को व्हे प्रोटीन

से एलर्जी होती है, इसलिए वे कैसीन का यूज करते हैं।


Also Read : क्या आप जानते है, पनीर के ये फायदे और नुक्सान!


उच्च रक्तचाप कम करने में

उच्च रक्तचाप  हृदय रोगों का सबसे बड़ा कारण होता है। स्टडी में पाया गया है कि डेयरी के

उत्पाद खाने से ब्लड प्रेशर बढ़ने की समस्या नहीं होती है। व्हे प्रोटीन ब्लड प्रेशर को कम करने में

बहुत ही फायदेमंद होता है। एक स्टडी में पाया गया है कि 6 हफ्ते तक कम से कम 22 ग्राम

प्रतिदिन व्हे प्रोटीन का सेवन करने से ब्लड प्रेशर से जुड़ी बीमारी ठीक हो जाती है।

कंपलीट प्रोटीन का है सोर्स 

हमारे शरीर में अमीनो एसिड्स की कमी से ग्रोथ रुक सकती है और व्हे प्रोटीन के कंटेंट में कई

सारे एसेंशिअल अमीनो एसिड्स पाए जाते हैं, जो कि हमारे शरीर में इनकी कमी को पूरा करते हैं।

प्लांट बेस्ड प्रोटीन में वैलीन और ल्यूसीन अमीनो एसिड्स की कमी होती है। ये कमी मसल्‍स बनाने

वालों में  व्हे प्रोटीन से आसानी से पूरी हो जाती है। इसलिए व्हे प्रोटीन को प्रोटीन का कंप्‍लीट सोर्स

माना जाता है।

kya whey protein hai body ke liye faydemand

फास्ट मसल्स रिकवरी करता है

इंटेंस वर्कआउट करने के बाद आपकी बॉडी को जल्दी से जल्दी रिपेयरिंग की जरूरत होती है। व्हे

प्रोटीन इसके लिए सबसे अच्छा विकल्प होता है। चूंकि यह बहुत जल्दी पच जाता है, इसलिए

लगभग हर प्रोफेशनल बॉडी बिल्डर और एथलीट इसे पसंद करता है। 

व्हे प्रोटीन के नुकसान

हो सकती है किडनी में स्टोन

अधिक मात्रा में व्हे प्रोटीन का सेवन करने से किडनी में स्टोन होने की संभावना बनी रहती है।

अगर आप पहले से ही इस बीमारी से पीड़ित हों तो व्हे प्रोटीन इस बीमारी को अधिक गंभीर कर

सकता है।

लीवर में परेशानी होना

अधिक मात्रा और दिन में कई बार व्हे प्रोटीन का सेवन करने से लीवर की समस्या भी हो सकती है।

ऑस्टियोपोरोसिस होना

लंबे समय तक व्हे प्रोटीन का सेवन करने से हड्डियों में मिनरल का संतुलन गड़बड़ हो जाता है

जिसकी वजह से आपको ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या हो सकती है।

whey protein muscle building

व्हे प्रोटीन के प्रकार

कंसंट्रेट :

इसमें प्रोटीन की मात्रा 25% से लेकर 80% तक होती है। इसे WPC या WPC80 भी कहते हैं।

बाजार में अधिकतर प्रोटीन यही होते हैं और इन्हें अधिकतर लोग इस्‍तेमाल करते हैं।

आइसोलेट :

प्रोटीन के शुद्ध रूप को आइसोलेट कहते हैं। इसमें प्रोटीन की मात्रा 90-95%  होती है।

आइसोलेट की कीमत व्हे प्रोटीन कंसंट्रेट की अपेक्षा अधिक होती है। इसमें कार्ब की मात्रा भी बहुत

कम होती है।

kya hota hai whey protein

हाइड्राेलाइज्ड :

यह व्हे प्रोटीन का सबसे महंगा रूप होता है। जिसमें प्रोटीन की मात्रा 100% होती है। मसल्स

बिल्डिंग, लीन मॉस गेनिंग के लिए इसे यूज में लिया जाता है।

Also Read : आतंक रोकने के लिए गृह मंत्रालय ने बनाया टेरर मॉनिटरिंग ग्रुप


Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *