ताड़ासन योग: लाभ और सावधानियाँ

Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ताड़ासन योग की जितनी भी तारीफ की जाए कम है। यह पूरी शरीर को लचीला बनाता है और

साथ ही साथ कड़ा एवं सख्त होने से रोकता है। यह एक ऐसी योगासन है जो मांसपेशियों को ही

नही बल्कि सूछ्म मांसपेशियों को भी बहुत हद तक लचीलापन बनाता है। और इस तरह से शरीर

को हल्का तथा विश्राम एवं जोड़ों को ढीला करने में बहुत  बड़ी भूमिका निभाता है। यह योगाभ्यास

आपको चुस्त दुरुस्त ही नहीं करता बल्कि आपके शरीर को सुडौल एवं खूबसूरती प्रदान करता है।

शरीर में जहाँ तहाँ जो अतरिक्त चर्बी जमी हुई है उसको पिघलता है और आपके पर्सनालिटी में नई

निखार ले कर आता है। 

taadasana ke faayde

ताड़ासन को विभिन्य नामों से जाना जाता है जैसे:

  • पर्वतआसन: इसे पर्वत योग मुद्रा इसलिए भी कहा जाता है क्योंकि पर्वत की तरह यह स्थिर एवं शांत प्रतीत होता है।
  • पाम ट्री योग: इसे पाम ट्री के नाम से इसलिए जाना जाता है क्योंकि खजूर के पेड़ की तरह लम्बा जान पड़ता है।
  • स्वर्गीय योग: इसे स्वर्गीय मुद्रा के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसमें साधक अपने आप को स्वर्ग की ओर खींचता हुआ प्रतीत होता है।

ताड़ासन संस्कृत के दो शब्दों तड़ा और आसन से मिलकर बना हुआ है। यहां तड़ा का मतलब

माउंटेन यानि पर्वत और आसन का मतलब पोज से है।


Also Read : दही के 10 बेमिसाल फायदे


ताड़ासन करने के तरीके

ताड़ासन को दिन में किसी भी समय किया जा सकता है लेकिन आपको सिर्फ इस बात का ध्यान

रखना पड़ेगा कि ताड़ासन को खाली पेट करें या फिर भोजन करने के बाद ही करना चाहते हैं

तो इस आसन को करने से करीब चार से छह घंटे पहले भोजन कर लें। इसके अलावा यदि

आपने ताड़ासन को पहले कभी नहीं किया है और अभी शुरूआत करने जा रहे हैं तो शुरू में

आपको थोड़ी समस्या हो सकती है। एड़ियों को उठाकर पैर की उंगलियों पर खड़े रहने में आपको

दर्द हो सकता है। इसके लिए आपको धैर्य के साथ धीरे-धीरे इसका अभ्यास करना चाहिए।

taadasana karne ke chamatkaari laaabh

1.) इसके लिए सबसे पहले आप खड़े हो जाए और अपने कमर एवं गर्दन को सीधा रखें।

2.) अब आप अपने हाथ को सिर के ऊपर करें  और सांस लेते हुए धीरे धीरे पुरे शरीर को खींचें।

3.) खिंचाव को पैर की अंगुली से लेकर हाथ की अंगुलियों तक महसूस करें।

4.) इस अवस्था को कुछ समय के लिए बनाये रखें ओर सांस ले सांस  छोड़े।

5.) फिर सांस छोड़ते हुए धीरे धीरे अपने हाथ एवं शरीर को पहली अवस्था में लेकर आयें।

इस तरह से एक चक्र पूरा हुआ।

6.) कम से कम इसे तीन से चार बार प्रैक्टिस करें।

ताड़ासन योग के फायदे

लंबाई बढ़ाने में

ताड़ासन करने से पैरों, उंगलियों और शरीर के अन्य हिस्सों में खिंचाव होता है जिससे की व्यक्ति

की लंबाई बढ़ती है। कम उम्र के बच्चों की लंबाई बढ़ाने के लिए भी उन्हें यह आसन करने की

सलाह दी जाती है।

शरीर को टोन करने में

 अगर आप ताड़ासन करते हैं तो यह आसन कूल्हों, नितंबों और पेट को टोन करने का काम करता

है। इससे शरीर को भारीपन महसूस नहीं होता है और आप हल्का अनुभव करते हैं। इसलिए

आपको यह आसन जरूर करना चाहिए।

वजन कम करने के लिए

अगर इस आसन को सही तरह से अभ्यास किया जाए तो बहुत हद तक पेट की चर्बी को कम करने

में मदद मिल सकती है। पेट की चर्बी ही नहीं यह पुरे शरीर के अतरिक्त वसा को कम करने में

बहुत बड़ी भूमिका निभा सकता है। इस आसन को सही तरीके से करने से पुरे बॉडी में खिंचाव 

आता है और आपके शरीर को एक सुडौल दिशा में ले जाता है।

taaddasana yog - height badaane ke liye faydemand


ताड़ासन योग नसों एवं मांसपेशियों की दर्द के लिए

अगर आप नसों की दर्द से परेशान हैं तो आपको पर्वतासन करनी चाहिए। यह नसों की दर्द को ही

कम नहीं करता बल्कि मांसपेशियों के साथ नसों को मजबूत और सबल बनाता है। मांसपेशियों की

ऐंठन और मरोड़ जैसी समस्याओं को भी दूर करने मेीं मदद करता है।


Also Read : Dhoni’s Indian Army insignia on gloves



Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *