प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपचार

Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपचार

प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपचार:- लो प्लेटलेट (प्लेटलेट्स की कमी) या थ्रोम्बोसाइटोपेनिया की

समस्या किसी व्यक्ति के रक्त में प्लेटलेट्स की संख्या, सामान्य से कम होने की स्थिति को प्रगट

करती है। यदि रक्त में प्लेटलेट्स की संख्या 10,000 प्लेटलेट्स प्रति माइक्रोलिटर से कम होती हैं,

तो यह संकेत चिकित्सकीय आपातकाल की स्थिति को प्रदर्शित करते हैं। व्यक्तियों द्वारा पोषक

तत्वों का सेवन प्लेटलेट्स के उत्पादन में अहम् भूमिका निभाता है। अतः प्लेटलेट्स की कमी को

पूरा करने के लिए मरीज को उचित आहार को अपनाने की सलाह दी जाती है। लेकिन गंभीर स्थिति

में चिकित्सकीय इलाज की आवश्यकता होती है। यदि प्लेटलेट्स की कमी (थ्रोम्बोसाइटोपेनिया)

(low platelet count) के लक्षणों का समय पर निदान न किया जाये, तो यह आंतरिक रक्तस्राव

का कारण बनता है। 

प्लेटलेट्स की कमी क्या है :

प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपचार

प्लेटलेट्स की कमी (थ्रोम्बोसाइटोपेनिया), अक्सर कुछ विकारों जैसे- ल्यूकेमिया या प्रतिरक्षा

प्रणाली की समस्या के परिणामस्वरूप होती है। इसके अतिरिक्त यह स्थिति कुछ दवाओं के

दुष्प्रभाव के कारण भी उत्पन्न हो सकती है। यह बच्चों और वयस्कों दोनों को सामान रूप से

प्रभावित करती है। इसके अंतर्निहित कारणों के आधार पर यह स्थिति हल्के से बहुत गंभीर हो


Also Read:- उधर चंद्रबाबू नायडू यूरोप छुट्टियां मनाते रहे, इधर BJP में शामिल हुए टीडीपी के 4 सांसद


प्लेटलेट्स की कमी के लक्षण:

  • घाव से लंबे समय तक खून बहना
  • मसूड़ों या नाक से खून बहना
  • मूत्र या मल में रक्त की उपस्थिति
  • मासिक धर्म के अंतर्गत असामान्य रूप से रक्तस्राव
  • थकान
  • पीलिया
  • पेटेचिया नामक छोटे लाल या बैंगनी बिंदुओं के साथ धब्बे (स्पॉट्स) उत्पन्न होना

प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपचार:-

प्लेटलेट्स बढ़ाने के उपचार

.प्रोटीन, विटामिन ए, सी, के, फोलेट, जिंक, फोलिक एसिड, सेलेनियम आदि पोषक तत्वों से

भरपूर आहार लेना, प्लेटलेट्स में वृद्धि करने में कारगर उपाय साबित होगा।

2.अपनी डाइट में दही, आंवला, लहसुन, ग्रीन टी के साथ ही नारियल पानी और अनार, पपीता,

सेब, चुकंदर जैसे फलों को भी शामिल करें साथ ही पपीते के पत्तों का रस पीना भी एक लाभप्रद

उपाय है।

3. रोजाना एलोवेरा का सेवन भी इसके लिए फायदेमंद है। 20 से 25 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन

एलोवेरा का गुदा खाएं या फिर इसका जूस बनाकर पिएं।

.व्हीटग्रास यानि ज्वारों का उपयोग भी प्लेटलेट्स को बढ़ाने में काफी मददगार है। रोजाना सुबह

खाली पेट ज्वारे का रस निकालकर पीने से धीरे-धरे प् लेटलेट्स की संख्या में इजॉफा होगा।

5 .गिलोय का प्रयोग भी इसके लिए एक रामबाण उपाय है। गिलोय को तुलसी के साथ मिलाकर

दोनों को अच्छी तरह उबालें और काढ़ा तैयार करें। इस काढ़े का रोजाना प्रयोग लाभदायक होगा।


Also Read:- बालाकोट एयरस्ट्राइक का कोडनेम:’ऑपरेशन बंदर”





Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *