खसखस के चमत्कारी फायदे

Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

खसखस का इस्तेमाल सब्जी की ग्रेवी और सर्दी के दिनों में स्वादिष्ट हलवा बनाने के लिए किया

जाता है। यह स्वाद औरसेहत से भरपूर है, इसलिए स्वास्थ्य समस्याओं का उपचार करने के लिए भी

इसे दवा के रूप में प्रयोग करते हैं। खसखस के चमत्कारी फायदे हैं।

पॉपी सीड को आम भाषा में खसखस भी कहते है। औषधीय गुण से भरपूर खसखस का उपयोग

कई रोग के निजात पाने  के लिए करते है। अगर आपको अधिक प्यास लगती है, ज्वर, सूजन या

फिर पेट की जलन हो तो खसखस काफी कारगार साबित हो सकता है।

khaskhas ke fayde

खसखस का बीज में ओमेगा-6 फैटी एसीड, प्रोटीन और फाइबर का अच्छा स्त्रोत है। इन सब के

अलावा इसमें कैल्शियम, मैगनीज, थायमीन, विटामिन बी आदि पाया जाता है। आईए जानते है की

खसखस का इस्तेमाल कैसे विभिन्न रोगों में हमें आराम और राहत प्रदान करता है।


Also Read : खांसी से जल्दी छुटकारा पायें


फायदे

दर्द में दें राहत

दर्द चाहे कैसा भी हो हम सभी तुरंत राहत पाना चाहते है। ऐसे में खसखस दर्द में काफी उपयोगी

साबित हो सकता है। खसखस में मौजूद एल्कालाइड्स दर्द को दूर करने में मददगार साबित होता

है। मांसपेशियों का दर्द हो या फिर दांत का दर्द, नसों का दर्द हो या फिर जोड़ों का दर्द इन सब के

लिए खसखस का इस्तेमाल किया जा सकता है। मार्केट में खसखस के प्रोडक्ट आसानी से मिल

जाएगे। खसखस के चमत्कारी फायदे है।

सांस संबंधी तकलीफ

सांस संबंधी तकलीफ होने पर भी खसखस काफी फायदेमंद होता है। इसके साथ ही यह खांसी को

कम कर सांस संबंधी समस्याओं में लंबे समय तक आराम दिलाने में भी मदद करता है।

अनिद्रा दूर करें

बदलते लाइफस्टाइल में नींद नहीं आने की समस्या काफी आम हो गई है। यूं तो नींद नहीं आने के

कई कारण हो सकते है लेकिन प्रॉपर नींद नहीं लेने से कई अन्य बीमारियों को भी हम जाने अनजाने

में न्योता दे देते है। लेकिन खसखस के सेवन से आपके अंदर सोने की प्रबल इच्छा होगी। अगर

आपको भी अनिद्रा की शिकायत है तो सोने से पहले खसखस के पेस्ट को गर्म दूध के साथ सेवन

करना फायदेमंद साबित हो सकता है।

khaskhas se bane shareer taakatwar

कब्ज की समस्या

खसखस फाइबर का बेहतरीन स्त्रोत है, जिसका प्रयोग करने से कब्ज की समस्या नहीं होती। इसके

अलावा यह बेहतर पाचन में भी मदद करता है और शरीर को उर्जा देने के लिए भी बहुत

लाभदायक होता है।

पथरी की समस्या

समय के साथ कीडनी में पथरी की समस्या भी बढ़ रही है। खसखस किडनी में पथरी बनने के

प्रक्रिया को रोकता है। इसमें मौजूद ओक्सलेट्स शरीर में मौजूद अतरिक्त कैल्शियम को अवशोषित

करता है जिससे शरीर में क्रिस्टल नहीं बनाता है।

तनाव से मुक्ति

खसखस मानसिक तनाव से मुक्ति दिलाने के साथ-साथ त्वचा पर होने वाली झुर्रियों को भी कम

करने में मदद करता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं, जो आपको जवां बनाए

रखने में मदद करते है। 

khaskhas(Poppy seeds) ke chamatkaari laabh

नुकसान

खसखस का अधिक मात्रा में सेवन किया जाये तो खसखस के नुकसान भी हो सकते है –

1.) खसखस के पेड़ के मादक गुणों के कारण खसखस के सेवन को लेकर कई प्रकार की चिंताएं

होती है।

2.) इसके कच्चे बीजों में मॉर्फिन जैसे अल्फ़ाइड होता है, जो की एक दर्द निवारक जिससे नशे की

आदत भी लग सकती है इसलिए इसके पके बीजो का ही सेवन करना चाहिए।

3.) खसखस का सेवन हमेशा डॉक्टर के सलाह के अनुसार ही करना चाहिए। अत्यधिक मात्रा में

खसखस ग्रास का सेवन करने से हद से ज्यादा पेट भरा हुआ महसूस होता है। 

सेवन की विधि

आम तौर पर खसखस का खुराक ऐसा होना चाहिए

वाह्य उपयोग के लिए-

खस रूट पाउडर- 2-5 ग्राम या ज़रुरत के अनुसार

खस एसेंनशियल ऑयल- 2-5 बूंद या ज़रुरत के अनुसार

आंतरिक उपयोग के लिए-

खस जूस (शरबत)- 20-30 एम.एल (दिन में दो बार)

खस चूर्ण- 1-2 ग्राम (दिन में दो बार)

लेकिन खसखस की एक खास बात ये है कि इसका इस्तेमाल वाह्य और अांतरिक दो तरह से की

जा सकती है। यानि खसखस का सेवन करें या त्वचा पर इसको लगायें, दोनों में इसके इस्तेमाल का

तरीका अलग-अलग होता है।

Also Read : बंगाल में हड़ताल पर पूरे प्रदेश के सरकारी डॉक्टर, स्वास्थ्य सेवाएं ठप



Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *