दालचीनी के फायदे, उपयोग और नुकसान

Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दालचीनी ऐसा मसाला है, जो लगभग हर भारतीय रसोई में आसानी से मिल जाएगा। दालचीनी

सिर्फ़ एक मसाला ही नहीं, बल्कि एक औषधि भी है, जिसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट गुण कई

बीमारियों जैसे – आर्थराइटिस, डायबिटीज़, यहां तक की कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से आपको

सुरक्षित रखता है।

दालचीनी

दालचीनी के फायदे

वज़न कम करने के लिए

आजकल बढ़ता वज़न या मोटापा लगभग हर दूसरे-तीसरे व्यक्ति के लिए चिंता का विषय बन गया

है। खान-पान पर ध्यान न देना और सही तरीक़े से शारीरिक श्रम यानी व्यायाम व योग ना करने से

वज़न बढ़ने की समस्या होते रहती है। ऐसे में अगर खाने में दालचीनी का सेवन किया जाए, तो कुछ

हद एक यह समस्या कम हो सकती है। दालचीनी में मौजूद पॉलीफेनॉल्स (polyphenols), एक

प्रकार का एंटी-ऑक्सीडेंट है, जो इंसुलिन की संवेदनशीलता को बेहतर करता है। इंसुलिन खून में

ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करता है, लेकिन जब आपका शरीर सही मात्रा में इंसुलिन नहीं बना

पाता, तो ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है। इसके परिणामस्वरुप मोटापा, डायबिटीज़ और अन्य कई

बीमारियों का ख़तरा बढ़ जाता है। एक शोध के मुताबिक़, जिन महिलाओं में पॉलीसिस्टिक

डिम्बग्रंथि रोग (polycystic ovarian disease) हैं, उनके लिए दालचीनी इंसुलिन प्रतिरोध

(insulin resistance) को कम कर वज़न को नियंत्रित करती है । 

आर्थराइटिस में दालचीनी

बढ़ती उम्र के साथ-साथ हमारी हड्डियां भी कमज़ोर होने लगती है और कई लोगों को गठिया

(आर्थराइटिस) जैसी बीमारी घेर लेती है। ऐसे में दालचीनी एक औषधि के रूप में मदद करती है।

में आयरन, कैल्शियम व मैंगनीज़ जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो गठिया की बीमारी में

राहत देता हैं। 

 कैंसर

दालचीनी का प्रयोग कैंसर जैसे रोग पर नियंत्रण पाने में सक्षम है। वैज्ञानिकों ने अमाशय के कैंसर

और हड्डी के बढ़ जाने की स्थति‍ में दालचीनी और शहद को लाभदायक बताया है। एक माह तक

गरम पानी में दालचीनी पाउडर और शहद का सेवन इसके लिए बेहद फायदेमंद होता है।

इंफर्टिलिटी में दालचीनी

एक एंटी-ऑक्सीडेंट है, जो पॉलीफेनोलिस यौगिकों का एक समृद्ध स्रोत है। यह मोटापे से

ग्रस्त लोगों में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करता है। साथ ही यह इनफर्टिलिटी के ख़तरे को भी कम

करता है।

daalchini ke upyog

दालचीनी के नुकसान 

दालचीनी के कुछ नुकसान भी हैं, जिसके बारे में जानना ज़रूरी है, ताकि इसका सेवन करते समय

थोड़ा ध्यान रखें।

  1. लिवर की समस्या हो सकती है।
  2. खून पतला कर सकता है।
  3. त्वचा की समस्या।
  4. गर्भवती महिला को समय से पहले प्रसव हो सकता है।
  5. निम्न ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर


Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *