सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के उपचार

Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के उपचार

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के उपचार:- सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस जिसे स्पॉन्डिलाइटिस भी कहा

जाता है बहुत आम है पर उम्र के साथ इसकी स्तिथि बदतर होती जाती है। 60 वर्ष से अधिक आयु

के 85 प्रतिशत से अधिक लोग इससे प्रभावित होते हैं। ज्यादातर लोगों में इस समस्या का कोई

लक्षण नहीं होता है। 

गर्दन दर्द यानी सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस उम्र से जुड़े शरीर को होने वाले नुकसान के कारण होता

है। इस बीमारी में आपकी गर्दन में रीढ़ की हड्डी की डिस्क प्रभावित होती है। जब डिस्क

में निर्जलीकरण और सिकुड़न होती है, तब शरीर में ऑस्टियोआर्थराइटिस के संकेत विकसित

होते हैं, और हड्डियों (हड्डी स्पर्स) के किनारों के अतिरिक्त हड्डी विकसित होती हैं।


Also Read:- देश में बंपर सरकारी नौकरियां


सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के लक्षण क्या हैं :-

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के लक्षण
  • गर्दन में कठोरता और दर्द
  • सिरदर्द जो गर्दन में पैदा हो सकता है
  • सिर को पूरी तरह से घुमाने या गर्दन को मोड़ने में असमर्थता, यह कभी-कभी ड्राइविंग में परेशानी भी करता है
  • गर्दन घुमाने पर आवाज़ या पसीना आना
  • बाहों, हाथों, पैरों, या पैरों में झुकाव, संयम, में कमजोरी
  • समन्वय की कमी और चलने में कठिनाई
  • असामान्य प्रतिबिंब
  • मांसपेशियों की ऐंठन
  • मूत्राशय और आंत पर नियंत्रण का नुकसान

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के उपचार:-

सर्वाइकल स्पोंडिलोसिस के उपचार

गर्मी या बर्फ – एक हीटिंग पैड या ठंडा पैक को अपनी गर्दन में लगाने से गर्दन की मांसपेशियों का दर्द कम किया जा सकता है।

नरम गर्दन ब्रेस – ब्रेस आपकी गर्दन की मांसपेशियों को आराम देने में मदद करता है। हालांकि

, गर्दन की ब्रेस केवल छोटी अवधि के लिए पहनी जानी चाहिए क्योंकि यह अंततः गर्दन की

मांसपेशियों को कमजोर कर सकती है।

नियमित व्यायाम – गतिविधि को बनाए रखने से रिकवरी में मदद मिलेगी, भले ही आपको गर्दन

के दर्द के कारण अस्थायी रूप से अपने कुछ अभ्यासों को संशोधित करना पड़े। जो लोग रोज

चलते हैं उनमे गर्दन और पीठ दर्द कम होता हैं।

लहसुन – सुबह लहसुन की 2-3 कलियाँ खाने से और लहसुन का तेल लगाने से गर्दन के दर्द में

शीघ्र छुटकारा मिल सकता है।

पत्तेदार सब्जियाँ –ताज़ी हरी और पत्तेदार सब्जियाँ लेनी चाहिए। भोजन में सलाद अवश्य होना

चाहिए। पालक, गाजर, और चुकंदर का रस भी लेना चाहिए।


Also Read:- BJP’s Kota MP OM Birla  Elected as Lok Sabha Speaker



Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *