अमलतास के अनोखे फायदे और नुकसान

Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

अमलतास के अनोखे फायदे और नुकसान हैं।अमलतास के फायदे जानकर आप अपनी बहुत सी

स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं को ठीक कर सकते हैं। आप अमलतास को साधारण पेड़ समझने की गलती न

करें। पीले फूलों से लदे इस पेड़ के सभी भागों में औषधीय गुण होते हैं। अमलतास के उपचार गुण

कैंसर, कब्‍ज , दस्‍त, त्‍वचा, ट्यूमर संबंधी समस्‍याओं को दूर करने में मदद करते हैं। इस पेड़को

आयुर्वेद में जड़ी-बूटी के रूप उपयोग किया जाता है। इसकी जड़ों को त्‍वचा संबंधी समस्‍याओं जैसे

संवेदनशील त्‍वचा और सिफलिसआदि के लिए उपयोग किया जाता है। इसकी छाल कुष्‍ठ रोग दाद,

मधुमेह और हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए उपयोगी होती है।

amaltaas ke fayde

 इसमें पीले-पीले फूल होते है और ये फूल देखने में बहुत ही मनमोहक होते हैं। इन फूलों को घरों में

सजावट के लिए प्रयोग किया जाता है। 

अमलतास के फायदे

बुखार को ठीक करने के लिए

अमलतास फल मज्जा को पिप्पली की जड़, हरीतकी, कुटकी एवं मोथा के साथ बराबर भाग में

मिलाएं। इसका ककाढ़ा बनाकर पीएं। इससे ज्वर में लाभ होता है।

एसिडिटी को दूर करे 

यदि आपको पेट की गैस या एसिडिटी की शिकायत है तो इसे ठीक करने के लिए आप अमलतास

का उपयोग कर सकते हैं। आप इसके फल से निकलने वाली लुग्‍दी से पेट में नाभी के आस-पास

लगभग 10 मिनिट तक मालिश करने से गैस की समस्‍या से राहत मिल सकती हैं। जिन लोगों को

पुरानी गैस की समस्‍या होती है उन्‍हें यह उपचार लगभग 1 महीने तक करना चाहिए।

फुंसी और छाले की परेशानी से निजात

अमलतास के पत्तों को गाय के दुग्ध के साथ पीसकर लेप करने से नवजात शिशु के शरीर पर होने

वाली फुंसी या छाले दूर हो जाते हैं।

amaltaas ki fali

गर्भावस्‍था को रोके

इस औषधीय पौधे का उपयोग गर्भावस्‍था को रोकने के लिए प्राचीन समय से किया जा रहा है। इस

पौधे में मौजूद घटक प्रजनन में शामिल हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। ए‍क पशू

अध्‍ययन से पता चलता है कि अमलतास के बीजों से निकाले गए पाउडर का संभोग करने के दौरान

1-5 दिनों तक मौखिक रूप से 100 से 200 मिलीग्राम / किग्रा (शरीर का वजन) के अनुसार सेवन

करने से गर्भावस्‍था की संभावनाओं को 71.43 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है।

बवासीर में फायदेमंद 

अमलतास, चमेली तथा करंज के पत्तों को गाय के मूत्र के साथ पीस लें। इसे बवासीर के मस्से पर

लेप के रूप में लगाएं। इससे बवासीर में लाभ होता है। अमलतास के अनोखे फायदे और नुकसान

हैं।


Also Read : चिरौंजी के फायदे और नुकसान


अमलतास के नुकसान

 अमलतास का उपयोग बहुत ही कम मात्रा में करना चाहिए।

1.) अमलतास का अधिक मात्रा में सेवन करने से मतली, चक्‍कर आदि की परेशानी हो सकती है।

2.) यदि आप किसी विशेष प्रकार की दवाओं का सेवन कर रहे हैं, तो अमलतास का उपयोग करने

से पहले अपने स्‍वास्‍थ्‍य सलाहकार से सलाह लें।

amaltaas ki faliya for fistula and anus problems

3.) गर्भावस्‍था के दौरान अमलतास का उपयोग करने से बचना चाहिए। यह गर्भापात

का कारण बन सकता है।

4.) अमलतास का बच्चो को सेवन करने से पहले किसी जानकर व्यक्ति से सलाह अवश्य ले।

Also Read : Missing AN-32: मिला मलबा


Share :
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *